Lokkala Darpan Blog Post

Chhattisgarhi Language

Offers basic words and sentences for learning Chhattisgarhi language.

Chhattisgarhi Literature

Chhattisgarhi is one native language among 1650 languages in India.

Chhattisgarhi Culture

Chhattisgarh is rich in its cultural heritage. The State has a very unique and vibrant culture.

Chhattisgarhi culture and traditions

Cultural life of Chhattisgarh comprises varied forms of traditional art and crafts.

Our Latest Blog Post

आजादी के समर्पित सेनानी-विद्या प्रसाद यादव

आजादी के अमृत महोत्सव पर विशेष.. देश की आजादी की लड़ाई के लिए संकल्पित भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में जब उग्रवाद काल (गरम दल) का दौर चल रहा था और लाल…
Read More

आजादी की लड़ाई में सर्वस्व न्यौछावर करने वाला सेनानी- विश्वेश्वर प्रसाद यादव

देश की आजादी की लड़ाई के लिए संकल्पित भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में जब गरम दल का दौर चल रहा था उस  काल छत्तीसगढ़ के राजनांदगांव में भी अंग्रेजों के विरुद्ध…
Read More

आजादी के अमृत महोत्सव पर विशेष…

आजादी के समर्पित सेनानी – तुलसी प्रसाद मिश्रा  छुरिया विकासखंड के चिरचारी कला में 9 नवंबर 1903 को तुलसी प्रसाद मिश्रा का जन्म हुआ । 1929 में शिक्षक की नौकरी …
Read More

*”बेरा-बेरा के बात”– अबेवस्था के विरुद्ध  शंखनाद आय*

छत्तीसगढ़ के संस्कृति अउ लोककला परम्परा के अध्येता डॉ. पीसी लाल यादव जी छत्तीसगढ़ के स्थापित सशक्त साहित्यकार आँय।जिंकर लेखनी हिंदी अउ छत्तीसगढ़ी दूनो भाषा म गद्य अउ पद्य दूनो…
Read More

Chhattisgarh of Lok kala Darpan!

Objectives of lok kala darpan
Features

Cultural Activities

To bring forward all the cultural activities of the region.

Preservation and promotion

Preservation and promotion of the rich folk art tradition of the region.

Region to the public.

Bringing the historical background of the region to the public.

Literature of the region

To remember our ancestors who contributed to the folk art and literature of the region.

Cultural parties of the region.

To give place to the activities of the Nacha Dal, Lok Kala Dal and other cultural parties of the region.

Cultivation of the area.

To bring to the public the subject-matter related to the cultivation of the area.

Publishing the religious places of the region.!

Menu