छत्तीसगढ़ी गज़ल - मुकुंद कौशल


गज़ल 

रहिजा पहिली जम्मो चुलहा मां आगी सिपचावन दे|
मनखे - मनखे के चेहरा मां हाँसी ला बगरावन दे ||

बाँह मां सपना कहाँ अमाही, नींद के कोरा छोटे हे ,
हमर साध के सोनपरी ला, डैना खोल उडावन दे 

मन के बनपाँखी अरझे हे, छत्तीसगढ़ के संसों में ,
पहिली येकर जम्मो काँटा खूँटी ला अलगावन दे 

हमर गोड़ के आरो बुडगे, नारा के हो हल्ला में ,
अब सिरतोन के भुइयाँ ऊपर, हमला गोड़ मढ़ावन दे

नान्हे - नान्हे छौना मन के, ननपन कहूँ गँवा गे हे ,
ये मन ला भुलवारे खातिर, तान के लोरी गावन दे 

बेंदरा मन धमसा कूदिन हें, छत्तीसगढ़ के छान्ही मां ,
थोरिक अभी थिरा ले 'कौसल', टूटे खपरा छावन दे

                                                                    
                                                            छत्तीसगढ़ी गज़ल 
                                                              मुकुंद कौशल 

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां