स्व.खुमान साव जी की प्रथम पुण्यतिथि पर विशेष



स्व.खुमान साव जी की प्रथम पुण्यतिथि पर विशेष 

छतीसगढी लोककला के क्षेत्र में नाचा के माध्यम से अंचल के लोग सदियों से मनोरंजन करते रहे है।कई दशकों तक खडे साज व नाचा का चलन अंचल में रहा।मनोरंजन के आधार सीमा का इजाफा करते हुए स्वनामधन्य लोकगीतों के अग्रदूत तथा पृथक छतीसगढी निर्माण की सांस्कृतिक कांन्ति को नई दिशा प्रदान करने वाले स्व.खुमान साव ने अपनी संस्था चंदैनी गोदा व आकाशवाणी के माध्यम पहूंचाया और एक स्वस्थ्य मंनोरंजन का शंखनाद किया।खुमान साव जी ने सभी रचनाओं मे सुमधुर संगीत का शहद डाला।स्व.खुमान साव जी के व्यक्तितत्व मे अनुशासन, समर्पण, त्याग, धैर्य, कर्त्तव्यनिष्ठा, आत्मविश्वास, व संगीत के प्रति ईमानदारी कुट कुट के भरी थी।फूहड़ता, अश्लीलता से कोसो दुर खुमान साव जी निरंतर छतीसगढी गीतों को अपनी सेवाएं प्रदान करते रहे।आपकी अनुशासित टीमों में भैय्या लाल हेडाऊ,लक्ष्मण मस्तुरिया, जयंती यादव,केदार यादव, कविता वासनिक बासंती देवार,मुकंद कौशल,रामेश्वर वैष्णव, मदन शर्मा, महेश ठाकुर, पंचराम  देवदास, कृष्ण कुमार चौबे इत्यादि शामिल थे।
आज लोक संगीत के भीष्म पितामह हमारे बीच नहीं है लेकिन संगीत के प्रति उनकी ललक ने छतीसगढियाँ  के मन -जन मे अपना अविस्मरणीय स्थान बरकरार रखा है।9जून को उनकी प्रथम पुण्यतिथि पर सादर नमन करते हुए अंचल के सभी कलाकार भावाँजली स्वरूप अपने उदगार समर्पित कर किया।जिसमे मुख्य रूप से दुर्ग श्री शिव कुमार(दीपक )मुख्य हास्य कलाकार श्री कुलेश्वर ताम्रकार पद्म विभूषण तीजन बाई  (लोक गयिका)श्रीमती जयंती यादव (लोक गायिका)श्री मुकुंद कौशल (साहित्यिकार व गीतकार)आत्मा राम कोसा केदार दुबे, आचार्य सरोज दिवेदी ,श्रीमती कविता वासनिक, हिमानी वासनिक, महादेव हिरवानी संतोष कुमार साहु,मदन शर्मा, तोष कुमार साहु रजनी रजक इत्यादि ने महतारी के लाल के अपन व्यक्तिगत राय एपिसोड मे  स्व.खुमान साव जी को नमनवत श्रद्धाजंली के साथ दी।उक्त जानकारी लोककला दर्पण परिवार से गोविंद साव तथा रवि रंगारी ने दी।

साभार-रवि रंगारी की कलम से.........

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां