प्राकृतिक वातावरण के अहसास जंगल सफारी में (आलेख - डॉ.दीनदयाल साहू )




प्राकृतिक वातावरण के अहसास जंगल सफारी में
------------------------------------------------------------------------------

छत्तीसगढ़ राज के राजधानी नवा रायपुर ह कतकों ठन उपलब्धि संग विकास के दिसा में देस के पहली लइन में अपन जगा बनाय बर आगू बढ़त हे। हर बछर इहां के लोगन के मुताबिक, खरा उतरे के प्रयास में कोनो कमी नी करत हे अउ कोसिस होवत हे प्रकृति म सुघ्घर वातावरण बनय जेकर ले हम सब झन ल फायदा होवय। येकर लिए जोन भी जरूवत होही वोला पूरा करे के प्रयास घलो होवत हे। वइसे भी नवा रायपुर के पहिचान देस के नक्सा म बनते हवय। इहां के हरियर वातावरण ह लोगन ल प्रभावित करत हे अउ कतको ठन नवा प्रयोग अउ विकास होवत हे जेमा इहां के जंगल सफारी घलो आथे। पाछू तीन बछर म बने ऐ जंगल सफारी अपन विशेषता ले देस म चर्चित होवत हे। इहां के जंगली जानवर, हवा-पानी मन सबके मन ल लुभावत हे। नजदीक ले जानवर मन के परखई लगग तीन बछर पहली बने देस के एहा पहिली अइसे  जंगल सफारी आय जेला मनखे मन प्राकृतिक वातावरण पैदा करके अपन राज संग देस-विदेस के घूमैया-फिरैया मन बर आकर्षण का केन्द्र बन गे हवय। करीब सात सौ एकड़ जगा म बगरे ऐ जंगल सफारी के लोकार्पण प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ह 1 नवंबर 2016 म करिस। अभी जंगल सफारी के जू म ऐ बेरा सफेद बाघ, सिंह, तेंदूआ, भालू, दरियाई घोड़ा, मगरमच्छ, वन भैंसा व कतको जंगल के रहैया जीव-जंतु बहुतायत में हैं। ऐ जंगल सफारी की खास विशेषता हावे कि इहां शेर जइसे खतरनाक जानवर ल घलो नजदीक ले घूमत-फिरत देख सकत हन। इहां जतका जानवर हे तिंकर मन बर अनुकूल वातावरण बनाय गेहे। ऐकरे संग पर्यटक और जानवर मन के बीच तालमेल बनाए रखे खातिर खास बेवस्था घलो करे गेहे। पर्यटक मन के मुताबिक इहां प्राकृतिक वातावरण बनाय रखे बर उदीम करे गेहे। तेकरे सेती नजदीक के वातावरण मन हरियर हरियर दिखथे। यहां पर्यटक मन अइसन वातावरण ल देखके सुखद अनुव करथें | तेकरे सेती रोज इहां बड़ संख्या में घूमैया मन पहुंचत रहिथें। जंगल सफारी के रिकार्ड के मुताबिक हर बछर इहां करीब तीन लाख पर्यटक पहुंचथें| जेमा हर बछर बढ़ोतरी घलो होवत हे अउ अब तो विदेशी पर्यटक घलो पहुंचत रहिथें। बहुत कम बेरा में जंगल सफारी की अंतर्राष्ट्रीय चिंहारी बन गेहे। कुछ महीना पहिली इंग्लैंड के क्रिकेट खिलाड़ी केविन पीटरसन, न्यूजीलैंड के क्रिकेटर डेनी मारीसन अउ आस्ट्रेलियन क्रिकेटर केविन ह घलो दू घंटे तक जंगल सफारी ल घूमे रिहिन हे।
                                                                                  मनोरंजन

जंगल सफारी अवैय्या मनखे मन यहां के प्राकृतिक वातावरण ल देखके आत्मिक सुकून के अनुव करथें अउ रपूर मनोरंजन घलो करथें। इहां बेरा बेरा में कतको आयोजन घलो होवत रहिथे जेमें येहू बछर के शुरूआत में इहां अखिल भारतीय खेलकूद स्पर्धा के आयोजन करे गे रिहिस हे, जेमें देश के प्राय: सब्बो राज्य अउ केन्द्र शासित राज्य समेत 32 जाने - माने संस्थान के 2500 ले ज्यादा खिलाड़ी अउ अधिकारी शामिल होइन।

नवा तकनीक

बेरा के मांग अउ आधुनिक परिवेश ल ध्यान म रखत जंगल सफारी के नवीनीकरण व आधुनिकीकरण संग जरूरी बदलाव बर पूरा ध्यान केन्द्रित करे जावत हे। इही उद्देश्य म देस र ले जू ले जुड़े अधिकारी मन के इहां आना जाना लगे रहिथे। इहां चिड़िया घर तियार होवत हे जेकर जल्दी पूरा होय के संभावना बनत हे। कुछ दिन पहली कर्नाटक राज्य चिड़िया घर प्राधिकरण के अधिकारी इहां घूमे बर आए रिहिन हे, वो मन अपन जुन्ना ज्युलाजिकल पार्क ल जंगल सफारी सही नवीनीकरण करना चाहते हें। ऐ तरह ले जंगल सफारी जइसे प्राकृतिक वातावरण ल पाके अपन राज्य के उपलब्धि संग बने जीवन जीए के शैली म ऐला महत्वपूर्ण कदम मान सकत हन। 
                                                    
                                                                                                               स्थान-रायपुर
                                                        डा. दीनदयाल साहू
                                                        साहित्यकार व संपादक
                                                        पता-प्लाट न. 429 सड़क न.-07
                                                       माडल टाऊन                                                                       नेहरु नगर भिलाई                                                                    मो.-97523-61865  

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां