सुप्रसिद्ध लोकनाट्य चरणदास चोर (निर्देशक हबीब तनवीर)

सुप्रसिद्ध लोकनाट्य निर्देशक हबीब तनवीर 


लोकनाट्य 
चरणदास चोर कहानी एक राजस्थानी लोकगाथा के आधार पर विजयदान देथा ने लिखी वे विजयदान देथा की कहानी पर सुप्रसिद्ध लोकनाट्य निर्देशक हबीब तनवीर ने छत्तीसगढ़ के लोकनाट्य चरणदास चोर नाटक को नया आयाम दिया 

चरणदास चोर एक चोर की मजेदार कहानी है। चोर ही कहानी का हीरो है और इस चोर का नाम है चरणदास। एक बार पुलिस से बचने के लिए चरणदास एक साधु के पास जा पहुँचता है। चरणदास साधु को गुरु मान लेता है। साधु चरणदास से पाँच वचन लेता है। इनमें पहले चार वचन इस तरह हैं- सोने-चाँदी की थाली में नहीं खाऊँगा, हाथी-घोड़े के जुलूस में सवारी नहीं करूँगा, कोई रानी भी मुझसे शादी करना चाहे तो मना कर दूँगा और कोई राजा बनाना चाहेगा तो नहीं बनूँगा।



चरणदास ये चार वचन यह सोचकर देता है कि उसके जीवन में कहाँ-कभी ऐसे मौके आने वाले हैं। साधु बाबा भी उससे कहते हैं कि तूने जो वचन दिए हैं वे बातें तेरे जीवन में कहाँ होने वाली हैं। इसके बाद साधु बाबा कहते हैं कि मेरी तरफ से एक वचन दे कि तू चोरी करना छोड़ देगा।

इस पर चरणदास कहता है कि गुरुदेव वह तो मेरा धंधा है। चोरी करना छोड़ दूँगा तो खाऊँगा क्या? फिर पाँचवाँ वचन सच बोलने का देकर वह साधु से बिदा लेता है। चरणदास के ये पाँच वचन ही कहानी को आगे बढ़ाते हैं। चरणदास के साथ उसका शागिर्द बुद्धू धोबी भी है। दोनों गाँव में खूब चोरियाँ करते हैं। पर दोनों उतने बुरे भी नहीं हैं क्योंकि वे अमीरों का धन लूटकर गरीबों को बाँट देते हैं। दोनों के दिन इस तरह कट रहे थे। एक बार वे राजमहल का रुख करते हैं। बुद्धू धोबी की मदद से चरणदास भेष बदलकर महल में प्रवेश करता है। चरणदास शाही खजाने से अपनी जरूरत के हिसाब से पाँच स्वर्ण मुद्राएँ चुरा लेता है।


चोरी सिर्फ चरणदास ही नहीं करता, बल्कि महल का एक कर्मचारी भी पाँच स्वर्ण मुद्राएँ चुराकर अपने पास रख लेता है। इन मुद्राओं का आरोप भी चरणदास पर भी लगता है। चरणदास महल में बुलाया जाता है। वह पाँच स्वर्ण मुद्राएँ चुराने की बात मान लेता है। बाकी बची पाँच स्वर्ण मुद्रा का रहस्य खुल जाता है और कर्मचारी को सजा हो जाती है। चरणदास के सच बोलने से रानी केलावती प्रभावित होती है। वे जुलूस भेजकर चरणदास को बुलाती हैं।

सोने-चाँदी की थाली में भोजन परोसती हैं, राजा बनाना चाहती हैं और आखिर में शादी का प्रस्ताव रखती हैं। चरणदास ने तो इन चीजों से दूर रहने का वचन दिया था, इसलिए वह इन प्रस्तावों को ठुकरा देता है। अब रानी गुस्से में आकर चरणदास चोर को मार डालने का हुक्म देती है। सिपानी रानी के हुक्म का पालन करते हैं। मरने के बाद चरणदास चोर यमराज के दरबार में पहुँचता है। उसके पीछे-पीछे बुद्धू धोबी भी रहता है। बुद्धू चित्रगुप्त के बही खाते से अपने नाम का पन्ना फाड़ देता है और फिर वे वापस भाग निकलते हैं। तो इस तरह वे यमराज से बच जाते हैं। चोर की जीत पर बहुत खुशी होती है। मजे की बात है कि राजनांदगांव के अधिकांश कलाकारों ने लोक नाट्य चरणदास चोर में अपनी अहम भूमिका निभाई है, इसमें हबीब तनवीर के निर्देशन में भारत भवन भोपाल में अपनी प्रस्तुति देते रहे हैं। इस मंचन से अंचल गौरवांवित हुआ है।


संपादक की डेस्क से 
गोविन्द साहू (साव)
लोक कला दर्पण 




टिप्पणी पोस्ट करें

1 टिप्पणियां

  1. यह कहानी रायपुरा डौडी निवासी जुगुलदास सतनामी की जीवनी से प्रेरित है ।जो जीते जी किंवदंती थे। जो सच‌बोलकर मंडल गौटियायों के घर चॊरी कर जनता में बाट देते थे।
    उनकी बातें नाचा गम्मत होते हबीब तनवीर तक पहुँचा।
    संयोगवश इस तरह की मिली जुली लोक कथा देश के कुछ भाग में रहा हो।यह अलग बात हैं।

    जवाब देंहटाएं