गनपति वंदना by Dr.dindayal sahu


गनपति वंदना
*************


बुद्धि के देवैय्या, कारज के बनैय्या...

सुमिरन तुमला हो... देव... गनपति महराज...

रखिहौ तुमन हो लाज...


जस के रद्दा होवय... दुख ले कोनो झन रोवय...

बिगड़े ल बनाहू... अंजोर म चलाहू

सुघ्घर होवय सबके काज...


दया धरम म डूबे रहन...बने बने सबे ल कहन...

सबला होवय नाज...


मिलके आरती उतारन...चरन तोरे पखारन...

एके सुर म सजे सबके साज...


सबके हर हू बिपत ल...पाबोन हमन सुमत ल

झन गिरय कोनो म गाज...


असीस तुंहरे हो पावन...निस दिन गुन ल गावन...

देवव सुख समृद्धि के राज...

रखिहौ हमरो हो लाज...
                   

                 डॉ. दीनदयाल साहू

                         साहित्यकार व संपादक
                         पता-प्लाट न. 429 सड़क न.-07  माडल टाऊन
                         नेहरु नगर भिलाई                                                                                              मो.-97523-61865                                                                                                                                                                                            


                                                        
               

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां