31 july 2020 friday at 5:00 pm join us live on facebook

वक्त का तकाजा

 

जिंदगी की तमन्ना,

यूं ही टूटते जाती है।

आस लिए मन की,

तन्हाइयों में।

अपने को

अकेले न समझ।

तलाशिए सदा,

मन को ऊंचाइयों में।

अपने ऊपर,

जो कुछ गुजरता है।

वह वक्त का,

तकाजा है।

लगे रहिए हरदम,

मर्जी उस कुदरत की।

जिसने तुम्हें संघर्षो ,

के लिए नवाजा है।

 

 

डा. दीनदयाल साहू


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां