सवनाही गीत - आगे हे सावन लागय मन भावन।


=========
       आगे हे सावन
      लागय मन भावन।
 लेवत हे लहरा
 मया पीरा के ।।
चले आबे --चले आबे -चले आबे।
                    
       रहि रहि के तड़कय
          तड़ातड़ बिजुरी 
          बिरही अलापय
        ओरिया के झिंगुरी
नाचय  अँजोरी
फाँफा कीरा के। 
चले आबे --चले आबे -चले आबे। 
                  
         आमा  के  डारी 
          झूलना बँधाये
         तोर संग झूले के 
           साध लमाये
रधिया गावत हे
भजन मीरा के। 
चले आबे- -चले आबे--चले आबे।
                   
         नंदिया उफनगे हे
            बादर हाँसय
         भउजी मिरिग नैनी
          दिरखा ले झाँकय
जादू चलय ना
बाना बिंदरा के।।
चले आबे --चले आबे --चले आबे

=======केदार दुबे
         सर्वाधिकार संरक्षित

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां