भईया राखी म आबे नही


सावन के पुरवाई संघरा , 
      राखी तिहार आय हावय।
रेशम के डोरी म भईया ,
       जनम के मया बंधाय हावय।
दाई के रांधे गुलगुल भजिया ,
         गठरी बाँध के लाबे।
भईया राखी म आबे नही ,
         मोला तै बता दे.....।।2।।

बहिनी बाँधय राखी  कहिथे ,
           इही मोर तिजोरी आय।
मोर मया के कूची हरे , 
     मत कहिबे काचा डोरी आय। 
गाढ़ा हावय मया भईया ,
                लहुँ म छपागे।
भईया राखी म आबे नही ,
            मोला तै बता दे .....।।2।।

नानपन म संघरा खेलेन , 
           रेंधे अऊ अगुवाय रेहेव ।
खोर गली अऊ रद्दा बाट म , 
           अंगरी धर रेंगाय रेहेव।
तोर करेजा के कुटका हरों,
           कइसे तै भुलागे।
भईया राखी म आबे नही ,
           मोला तै बता दे......।।2।।

झन भूलाहु बहिनी मन ल , 
             देखत रहिथन रद्दा ।
जियत भर के मया माँगेन ,
             नई माँगन चद्दर ,गद्दा।
जियत भर ले पूछ्बे भईया,
             कभू झन तिरियाबे ।
भईया राखी म आबे नही,
             मोला तै बता दे .....।।2।।


ये मया के कठरी भईया , 
         छूटय झन कभू काल म। 
दुनिया के कोंटा म राहन ,
          या रहिबो ससुराल म।
दाई ददा के सुरता ल ,
          तोर मया म भुलाबे .।
भईया राखी म आबे नही , 
            मोला तै बता दे .......।।2।।


किसम - किसम के राखी भईया,
                    रखिहव गा चिन्हारी।
बिता भर झगरहा गोठ म ,  
                   करिहव झन किनारी ।
एके थारी म खावन कभू 
                तेला सुरता कर ले ।
भईया राखी म आबे नही,
                मोला तै बता दे....।।2।।


ये राखी के मोल भईया ,
              कभू झन भूलाहु ।
हर सावन के पुन्नी म , 
                सुरता ल लमाहु ।
देखत रहिहौ रद्दा भईया,
             गठरी धर के आबे।
भईया राखी म आबे नही,
              मोला तै बता दे...।।2।।

हमर अंतस के आस हवय , 
            जग म नांव कमावव।
अपन छाती के कोन्हा म , 
            बहिनी बर जगा बनावव।
जन्म - मरण के बन्धन , 
             कभू झन छरियाबे ।
भईया राखी म आबे नही ,
             मोला तै बता दे ....।।2।।


पुष्पा गजपाल "पीहू "
महासमुन्द (छ. ग.)

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां