*सत्यनाम सत्यनाम* (गुरु पूर्णिमा विशेष)



*सत्यनाम सत्यनाम*
*सत्यनाम बोल*
*जय करुणामय सत्यनाम बोल।।*
★गर्भवास में भक्ति कबूले
बाहर आकर उनको भूले
पूरा करो तुम अपना कौल...

★मानुष तन को पाकर प्यारे
सोते हो क्यो पाँव पसारे
ज्ञानहीन नर आँखे खोल,...

★लोभ घमंड सबहि बिसरायो
विषयों से तुम चित्त हटाओ 
सत्य वचन तुम हरदम बोल ...

★घट घट में वह रमै निरन्तर
तुम मत जानो उनको अंतर 
सत्य तराजू लेकर तोल...

★सत्यलोक की ऐसी बाता
कोटि शशि इक रोम लजाता 
जहां पर हंसा करत किलोल...

★सुधा रूप यह वचन हमारा 
सेवक संतो करो बिचारा 
पुरुषनाम है अमी अमोल ...
  सत्यनाम सत्यनाम...$$
सकल संत को--
साहेब बन्दगी 🙏🙏🙏

((मुकुन्द सोनवानी))

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां