आगे दिन चऊमास के🌱


🌲आगे दिन चऊमास के,
              आगे दिन चऊमास के
कइसन आगे दिन बादर,
        गोठियाय नई सकस हाँस के
🌾 नांगर बइला के बावत नदागे,
                   ता टेक्टर हा फंदागे
धान होंगे सिंघसिगहा,
               बइहा बन हा उम्हियागे
मुही मोघा बंधाये हे ठास के,
                आगे दिन चऊमास के
🎋तइहा गुंडी मा बइठें बबा,
                        ढेरा डोरी घुमाय
उही समे आल्हा बॉचे,
  अब देशी अऊ पपलु मा भुलाये
हरेली के गेड़ी ह नंदागे बास के,
        आगे दिन चऊमास के.......
🌳हे बिधाता अब तो,
                  समेहा कइसन आही
सत सुनता हा परीया परही,
              चारी निंदा ह हरियाही गोठ लबारी नोहे अरझा लेवव्   गॉस के 
    आगे दिन चऊमास के.........
🦚ए जिनगी हे चरदिनीया,
          नदियां पिरीत के बोहालेव
छोटू कथे जय सिया राम,
         भाखा संग भाखा मिलालेव
कब छुट जाही ये काया हाड़मास के
आगे दिन चऊमास के..............🦚🦚🦚🦚🦚🦚🦚       

 
        🙏लेखक🙏        प्रेषक           
 💐मंच सारथी 💐    उदघोसक
छोटू साहू सिंघोलिया राकेश साहू
 सिंघोला राजनादगांव  सिंघोलिया                         
9993788812 7024588658

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां