पद्म श्री पूनाराम निषाद को दी श्रद्धांजलि


स्मरण किए दिवंगत कलाकार को

पद्म श्री पूनाराम निषाद को दी श्रद्धांजलि


छतीसगढ़ी लोक कला, संस्कृति को बचाए रखने का मुख्य श्रेय यहां के लोक कलाकारों-साहित्यकारों को जाता है। ऐसे कलाकारों को शासन-प्रशासन से सम्मान, प्रोत्साहन और मदद मिलने के बजाय, तिरस्कार, शोषण और तंगी जैसे हालातों का सामना करना कलाकारों का जीवन बन जाना दुर्भाग्य की बात है।  ऐसी ही स्थिति छत्तीसगढ़ के नामी पंडवानी सम्राट स्व. पूना राम निषाद रिंगनी निवासी को भारत सरकार का सर्वोच्च सम्मान पद्म श्री प्राप्त है। इनका परिवार घोर आर्थिक तंगी से जूझते हुए मनरेगा कार्यों में गोदी खूदाई कर गुजारा करने की स्थिति आन पड़ी है। करोना काल में जूझते इस परिवार की जानकारी मिलते ही उत्तर प्रदेश के विधान परिषद के सदस्य डॉ राजपाल कश्यप ने गंभीरता दिखाते हुए निषाद परिवार से संपर्क साधकर तत्काल राशन सामग्री भिजवाया और हर संभव मदद करने का आश्वासन भी दिया।

छत्तीसगढ़ शासन संस्कृति विभाग द्वारा केवल 2000 रू वित्तीय सहायता पूना राम निषाद को प्राप्त हो रही थी। इसकी खबर लगते ही अंचल के लोक कलाकारों में निराशा का भाव देखा गया है। इस संकट काल में शासन प्रशासन के सभी निदेर्शों का पालन करते हुए और सामाजिक दूरी बनाकर निषाद जी को श्रद्धांजलि अर्पित किए। संगठन के जिला संयोजक गौकरण मानिकपुरी ने बताया कि इस दौरान कोरोना वायरस जैसे गंभीर बिमारी से सभी प्राणी को निजात पाने मानसिक प्रार्थना किए, ताकि विश्व में स्वस्थ और सुखी जीवन के साथ साथ समृद्धि मिले। उक्त अवसर पर जिला सिरजन लोक कला साहित्य और कला परंपरा के संयुक्त पदाधिकारियों मेंे अध्यक्ष लाल जी सिन्हा संयोजक गौकरण मानिकपुरी उपाध्यक्ष यशोमती सेन सचिव खेमबाई निषाद सलाहकार मंडल में सेवक ठाकुर, पूनाबाई, रमेश कुमार बंसोड़, चैतूराम तारक, थनजी साहू, भुवन राम सेन, संरक्षक मंडल में भूलूराम सेन, राम बिशाल ध्रूव, रूप दास मानिकपुरी, खेलावन निषाद, यमुना साह,ू गंगाबाई मानिकपुरी, नारायण सिन्हा, सन्तोष दास मानिकपुरी और संगठन के युवा प्रकोष्ठ प्रमुख चुम्मन सिन्हा, बलराम धुव, विष्णु विश्वकर्मा, रजऊ राम ध्रुव, जुगुल राम ध्रुव, योगेश चक्रधारी, परमानंद धुव, पुर्णचंद साहू, आनन्द कुमार, जीतूबाई धुव, मोहन, मुरारी मानिकपुरी, बाबूलाल साहू और तोरण लाल गंधर्व सहित जिले के 16 लोक कला दल के सभी विधा लोक कला मंच पंडवानी नाचा गम्मत ंऔर मानस मंच के नियमित कलाकारों ने पद्म श्री पूना राम निषाद को श्रद्धांजलि दी है।


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां