तीज - पोरा


तीजा - पोरा

नई आवँव बेटी एसो लिहे बर तीजा पोरा ..



कोरोना के आतंक छाय हे , 
           बइरी ह मुहू लमाय हे ।
मोटर  गाड़ी  बंद  खड़े हे  , 
       गाँव - गाँव  हाँका  परे  हे ।
तोला देखे बर आँखी तरस गे , 
              मुहटा म खड़े हे  पहरा ।
नई  आवँव   बेटी   एसो ,  
             लिहे  बर  तीजा    पोरा ।

झन लानहु बेटी बहिनी ल , 
             काहत हे गाँव के सियान।
बोहाये बेटी आँसू के धारा , 
                मत  दुहु ग भईया ध्यान ।।
झन   करबे  नोनी  तै  ह  ,
              ददा  के   अगोरा ।
नई    आवँव  बेटी  एसो ,
         लिहे  बर  तीजा  पोरा ।

मोर अंतस ह अउंटत हावय ,
             मोर डेहरी सुन्ना परगे ।
बेटी , बहिनी के खुशी म ,  
         कोरोना के आँखी गढ़गे ।
संग - सँगवारी दुरिहा होगे , 
           दूरिहागे दाई के कोरा ।
नई   आवँव  बेटी   एसो ,   
        लिहे   बर   तीजा  पोरा । 

एसो  के  तीजा  पोरा  ल , 
              ससुरार  म   मनाहु ।
झन  करबे  बेटी  सुरता ,  
               दिन म लिहे बर आहूं।।
कोरोना बइरी रद्दा ठाढ़े , 
                झन  करबे  तै  जोरा।
नई आवँव बेटी एसो , 
                लिहे बर तीजा पोरा ।



पुष्पा ग़जपाल "पीहू"
श्री राम कालोनी महासमुंद (छ. ग.)

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां