*आगे पहुना बसंत* - बसंत पंचमी की आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं

                                                                                     


                           पिरीत के पानी म मया के रंग घोरे,

आगे  पहुना  बसंत  देख  तो  रे ।
मया-पिरीत म जग- जिनगी जोरे,
आगे  पहुना  बसंत  देख  तो  रे ।।
        नवाँ - नवाँ धरती लागय,
        नवाँ  लागय  रे  अगास।
        पिकियावय  सपना नवाँ,
        नवाँ  जागय  रे  पियास।।
मया  के रस में  हिरदे ल  चिभोरे।
आगे  पहुना  बसंत  देख  तो  रे ।।   
        रंग - रंग के फुलवा संग,
        फुलय   मन  के  आसा ।
        कोइली  कुहुक  बोलय ,
        मिसरी   घोरे    भाखा ।।
इरखा भेदभाव के जाला ल टोरे।
आगे  पहुना  बसंत  देख  तो  रे ।।
        उल्होवय    डारा - पाना ,
        महमहावय   जिनगानी।
        मऊर पहिरे आमा कुल्के
        नीक मऊहा के जवानी।।
लाली परसा सेम्हरा घमाघम हो रे।
आगे  पहुना  बसंत  देख  तो  रे ।।
        सरा....ररा....सरा....ररा
        छूटे   पिरीत  पिचकारी।
        रंग - गुलाल   के  ओखी,
        फुलय मया के फुलवारी।।
मया के बंधना ल कोनो झन टोरे।
आगे  पहुना  बसंत  देख  तो  रे ।।

                   

 - डॉ.पीसी लाल यादव 

टिप्पणी पोस्ट करें

2 टिप्पणियां